रविवार, 23 जुलाई 2017

मन थोड़ा अनमना सा ....

मन थोड़ा अनमना सा घर के कुछ कोने उदास हैं
दूर गया है आज वो मुझसे जो मन के पास है !

कैसे रहना है अपनों से दूर बेगानों के बीच जाने ना
जिसने जाना ना हो अपनेपन की होती क्या प्यास है !

खोया पाया लिया दिया इन बातों का हिसाब न रखा,
उन लम्हो को फिक्स कर दिया जो लगे कुछ खास हैं !

कीमत मत पूछना बहुत कीमती हैं जज़्बात अपनेपन के
अनमोल रिश्तों में खास होता बस यही इक अहसास है !

तस्वीर दीवार पे लगाई तुमने हर पल सामने रहने को
जी भर देखा भी नहीँ जाता सदा होता जब मन उदास है
  

6 टिप्‍पणियां:

  1. अनमनेपन को सुन्दर शब्दों में समेटा .... फिक्स की जगह कुछ और शब्द का चयन किया जाना था . जैसे

    उन लम्हो को सहेज लिया जो लगे कुछ खास हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-07-2017) को वहीं विद्वान शंका में, हमेशा मार खाते हैं; चर्चामंच 2677 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ... जब मन उदास होता है तो जी भर के देखा भी नहीं जाता ...
    गहरी और सच्ची बात ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सच्ची और गहरी बात कही आपने, शुभकामनाएं.
    रामराम
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  5. नाम वही, काम वही लेकिन हमारा पता बदल गया है। आदरणीय ब्लॉगर आपने अपने ब्लॉग पर iBlogger का सूची प्रदर्शक लगाया हुआ है कृपया उसे यहां दिए गये लिंक पर जाकर नया कोड लगा लें ताकि आप हमारे साथ जुड़ें रहे।
    इस लिंक पर जाएं :::::
    http://www.iblogger.prachidigital.in/p/best-hindi-poem-blogs.html

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए .....